Tuesday, June 27, 2017

जूता चोर चोरनी और इक हसीं ख्वाब

- वीर विनोद छाबड़ा
कल दोपहर खाना खाने के बाद जो नींद आयी तो शाम को ही टूटी। टूटी नहीं बल्कि तोड़ी गयी। मेमसाब 'चाय चाय' करती हुईं आयीं और एक झटके में नींद तहस-नहस कर गयीं। मैं उस समय कोई हसीन ख्वाब देख रहा था। यूं तो पचहत्तर फ़ीसदी ख्वाब मेमोरी से गायब हो जाते हैं और बचे हुए दो घंटे बाद वाश आउट। लेकिन अपवाद स्वरूप कुछ मष्तिष्क पटल पर टिके रह जाते हैं। कल वाला ख़्वाब भी कुछ ऐसा ही था।
हुआ यों कि मंदिर से हमारा नया नया स्पोर्ट्स शू चोरी हो गया था। हे भगवान, तेरे दर पर ये कैसा अंधरे? भक्त भी चोर होने लगे। मैंने पुलिस थाने में रपट लिखाई। अभी मैं थाने से बाहर निकला ही था कि पुलिस ने चोर को पकड़ लिया। मुझे हैरानी हुई कि लाखों-करोड़ों की चोरी का मामला तो पुलिस हल कर नहीं पाती और हमारे साढ़े छह सौ वाले जूता चोर को कैसे पुलिस ने कैसे आधे घंटे में धर दबोचा? इतना इंटरेस्ट लेने की वजह भी समझ में नहीं आयी। हैरानी तो और भी बढ़ी जब देखा कि वो जूता चोर चोरनी है।

दरोगा जी बड़े जोश में जोर जोर से ज़मीन पर डंडा और पैर फटका रहे थे - लड़की होकर जूते पहनती है और वो चुरा कर? जूता तो पकड़ में आ गया, अब जल्दी से यह भी बता कि कल कप्तान साहब की मेमसाब के जो सैंडिल चुराये थे वो कहां हैं?
अब मेरी समझ में आया कि जूता चोरी के मामले में दरोगा जी का बढ़-चढ़ कर के इंटरेस्ट लेने का कारण क्या है। वस्तुतः तलाश तो किसी सैंडिल की थी और हाथ में आया हमारा जूता।
वो लड़की बार बार कह रही थी - मैंने जूता चोरी नहीं किया है, यह जूते मेरे ही हैं। आजकल लेडीज़ भी जेंट्स जैसे जूते पहनती हैं। चाहो तो मेरे पापा से पूछ लो। मेरा मोबाईल वापस करो। मैं उनसे बात करा देते हैं। या आप खुद बात कर लें। उनका मोबाईल नंबर है.....।

Sunday, June 25, 2017

फ्लाई ओवर

- वीर विनोद छाबड़ा
मित्रों लखनऊ के गोमती नगर इलाके के जिस फ्लाईओवर पर मैं खड़ा हूं इसके नीचे सिंगल रेलवे लाइन है जो लखनऊ से वाया बाराबंकी गोंडा और गोरखपुर जाती है।
मुझे 1984 के वो दिन याद आ रहे हैं जब यहाँ सिर्फ़ रेलवे लाइन थी। क्रासिंग भी नहीं थी। दो लेन की सड़क थी। मैं अपनी मोपेड रेलवे लाइन पर से किसी तरह फंदा कर इंदिरा नगर से गोमती बैराज और डालीबाग़ होते हुए अशोक मार्ग स्थिति अपने ऑफिस आया जाया करता था।
गोमती नगर का इलाका आबाद हो गया, जो आज वीआईपी हो गया है। जल्दी ही रेलवे क्रासिंग बन गयी। यहां पर सड़क संकरी हो गयी। दो लेन से सिंगल लेन हो गयी। भीड़ होने लगी। अक्सर जाम लगने लगा। फाटक बंद होने का मतलब होता था कम से कम आधे घंटे का इंतज़ार। गर्मी और उमस के दिनों में हालत ख़राब हो जाती थी। मुझे याद है 2001 तक यही हालत रही।

यहां कार वाले स्क्रेच से बचने के लिए देर तक खड़े भीड़ छंटने का इंतज़ार करते मिलते। फिर फ्लाईओवर बन गया। एक साल से भी कम रिकॉर्ड समय में। आज तो इससे जुड़े दो फ्लाई ओवर बन गए हैं। शुरुआत में इरादा इसे साईकिल और स्कूटर के लिए बनाना था। लेकिन सरकार बदल गयी। इसका डिज़ाइन बदल गया इसे चौड़ा कर दिया गया। आज इन पर हैवी ट्रैफिक दौड़ता है। वीवीआईपी मूवमेंट के मौकों को छोड़ कर ट्रैफिक जाम का नामो-निशान नहीं रहा। अभी कुछ महीने पहले फैज़ाबाद रोड हाई कोर्ट की नई बिल्डिंग बन जाने के परिणाम स्वरूप ट्रैफिक बढ़ गया है। एक और फ्लाई ओवर बनाना पड़ बन गया है। लोहिया चौराहे से आने वाले वाहन सीधा हाई कोर्ट के क़रीब उतरते हैं। 

Saturday, June 24, 2017

तजुर्बे को सम्मान दो

- वीर विनोद छाबड़ा
अपने मुल्क में पढ़े-लिखे लोगों की कमी नहीं है। लेकिन हर आईएएस, आईपीएस, डॉक्टर, इंजीनियर, जज, शिक्षक, मास्टर या डिग्रीधारी विद्वान नहीं होता। अगर ऐसा होता तो हम आज जहां हैं, वहां बहुत पहले पहुंच गए होते। और आज की तारीख़ में अमेरिका, जापान, रूस और और चीन जैसे विकसित मुल्कों से कहीं आगे निकल गए होते। मुल्क में सकून होता। सोने की चिड़ियाँ चहचहा रही होतीं।
यों कई बार ऐसा भी होता है कि बिना डिग्री वाले डिग्री वालों से ज्यादा होशियार होते हैं।
एक बार हमने देखा कि एक सरकारी अस्पताल में बुढऊ कंपाउंडर अपने बॉस डॉक्टर को डांट रहा था - इतने छोटे बच्चे को इतनी स्ट्रांग एंटीबॉयटिक टेबलेट दी जाती है भला? पहले दवा टैस्ट कराइए, तब आगे बढ़िए। एमडी क्या कर लिए हैं कि जैसे तोप हो गए।
राज मिस्त्रियों को ही लीजिये। कई राजमिस्त्री बड़े बड़े आर्टिटेक्ट और सिविल इंजीनियर से भी ज्यादा जानते हैं। एक बड़े आदमी का घर बन रहा था। छोटी सी जगह से जीना निकालना था। आर्किटेक्ट की समझ में नहीं आ रहा था। सिविल इंजीनियर उनके दोस्त थे। वो भी फेल हो गए। उन दिनों हमारा मकान बन रहा था। हमारे मिस्त्री को बुला ले गये। उसने जुगाड़ निकाल लिया। आमतौर पर आम आदमी मकान-दुकान बनाते वक़्त राज-मिस्त्री के तजुर्बे का ही सहारा लेता है।
हम बिजली विभाग से रिटायर हुए हैं। संविदा पर काम करने वाले बिजली मज़दूर और मकैनिक अपने दम पर खुद ही फूंका हुआ ट्रांसफार्मर बदल लेते हैं। ऐसे ही लोगों के तजुर्बे के दम पर ही टिका है यह विभाग। डिप्लोमा या डिग्रीधारक इंजीनियर तो अंत में मुआयाना करने आते हैं।

कृपालू भगवान

- वीर विनोद छाबड़ा
भगवान बड़े दयालु एवं कृपालु हैं। वो किसी को निराश नहीं करते।

एक बंदे ने दो बरस तक खड़े होकर तप किया। लेकिन भगवान प्रकट नहीं हुए। लेकिन बंदे ने हिम्मत नहीं हारी। दोबारा तप किया, लेकिन इस बार एक टांग पर खड़े एक बरस तक कठोर तप किया।
भगवान प्रसन्न हुए। परंतु उनके पास बंदे को विज़िट करने का टाइम नहीं था। अतः उन्होंने दूत भेज कर बंदे को सशरीर बुला स्वर्ग लिया।
भगवान ने बंदे को गले लगाया। मौसमी और संतरे जूस पिलाया। फिर पूछा - बोल, क्या चाहता है भक्त?
भगवान की अपने पर कृपा देख कर गलगलान होते हुए बंदे ने फरमाइश की - बाबा, अब अंधे को क्या चाहिए? बस दो आंखें!  मुझे आपके दर्शन हो गए यही बहुत है।
भगवान ने कहा - वो तो ठीक है। लेकिन मैं जानता हूं, तूने बेवज़ह तप नहीं किया। बेझिझक मांग। मैं तुम्हें चार वरदान देता हूं।
बंदा बोला - तो ठीक है बाबा, मुझे एक बढ़िया नौकरी चाहिए।
भगवान ने कहा - समझो मिल गई जॉब। अब आगे।
बंदा बोला - मेरे पास एक बैग हो, जो हमेशा नोटों से भरा रहे।
भगवान ने कहा - चलो यह भी हो जाएगा। अब तीसरा वरदान मांग।
बंदे ने कहा - बाबा, मेरे पास एक बड़ी सी गाडी हो।
भगवान ने कहा - ठीक है। अब चौथा और आख़िरी।
बंदे ने थोड़ा शर्माते हुए कहा - और उसमें ढेर लड़कियां हों।
भगवान शरारत वाले अंदाज़ में मुस्कुराये  - भक्त, जा तेरा कल्याण हो।

Friday, June 23, 2017

इतिश्री मॉर्निंग वॉक

- वीर विनोद छाबड़ा
पति-पत्नी के मध्य सुबह-सुबह की बहस। एक पत्रिका में पढ़ी। पसंद आई। रोचक बनाने के लिए थोड़ा तड़का लगा कर पेश कर रहा हूं।
पति तैयार हो कर मॉर्निंग वॉक पर निकलने को था।  
पत्नी ने आदतन पूछा - जनाब, सुबह- सुबह कहां चल दिए?
पति सहज भाव से बोला - वही डेली का रूटीन, मॉर्निंग वॉक। तुम भी चलो।
पत्नी तनिक इठलाई - मैं क्यों चलूं? मुझे कोई बीमारी तो है नहीं। न शुगर और न ब्लड प्रेशर। देखने में भी ठीक-ठाक हूं, दुबली-पतली। तुम्हारी भाभी की तरह भैंस तो दिखती नहीं हूं।
पति ने बात पर  फुल स्टॉप लगाया - ठीक है बाबा। मत जाओ। मैंने तो ऐसे ही सुझाव दिया था। माइंड फ्रेश हो जाता है। सुबह की वॉक से।
पत्नी ने हाथ नचाया - तुम्हारे कहने का मतलब मैं खूब समझती हूं। मैं कोई गुस्से वाली हूं कि माइंड फ्रेश की ज़रूरत पड़े। 
पति परेशान हो कर बोला - ओफ्फो। अब बस भी करो। कहा न, मत जाओ। पड़ी रहो घर में।
पत्नी ने ऐंठ कर कहा - तुम क्या समझते हो मैं आलसी हूं।
पति ने आत्मसमर्पण किया - अरे भई, मैंने ऐसा तो नहीं कहा। प्लीज़ झगड़ा मत करो।
पत्नी गुस्से से बोली - मैं झगड़ा कर रही हूं? झगड़ालू हूं?
पति ने हाथ जोड़े - बाबा, मैंने ऐसा कब कहा?
पत्नी ने साड़ी का पल्लू कमर में खोंसा - अच्छा। तो तुम्हारा मतलब है कि मैं झूठी हूं।
पति झुंझलाते हुए बोला - ठीक है, तुम जीती, मैं हारा। मुझे जाने दो।

Wednesday, June 21, 2017

अपने लिए जिए, तो क्या जिए?

- वीर विनोद छाबड़ा 
कुछ महीने पहले की बात है। हमारे एक पुराने सहकर्मी दिवंगत हो गए। कारण अत्यधिक दारू से पूर्णतया ख़राब हो गया लीवर।
वो खुद तो चले गए लेकिन पीछे छोड़ गए कई यक्ष प्रश्न। उनमें प्रमुख था कि अनुकंपा के आधार पर नौकरी किसे दी जाये? दरअसल, उनकी दो पत्नियां थीं।
पहली पत्नी वैधानिक थी। परंतु उसके साथ वो रहते नहीं थे। वो गांव में रहती थी। उससे उनके तीन बच्चे भी थे।
बताते हैं कि दूसरी पत्नी से उन्होंने आर्य समाज मंदिर में शादी की थी। अंत तक उसी के साथ रहे भी। लेकिन समाज और कानून की मोहर नहीं लगी। किसी ने अटेंड नहीं की। उससे भी उनके दो बच्चे भी हुए। अब इन बच्चों की क्या गलती?
पहली पत्नी ने उनकी इस तथाकथित शादी के विरुद्ध मुकद्दमा भी चल रहा है।
क्लेम किसे दिए जायें? दावा दोनों और से पेश किया गया है।
कुछ का कथन है कि दूसरा विवाह उन्होंने पहली पत्नी की लिखित सहमति के आधार पर किया था। ऐसा डॉक्यूमेंट भी मौजूद है। परंतु पहली पत्नी का कथन है कि यह सहमति फर्जी है। धोखे से हस्ताक्षर कराये गए थे। 

कल तक नौकरानी थी

- वीर विनोद छाबड़ा
आमतौर पर जिसकी नई-नई शादी हुई होती है वो बंदा दो-तीन हफ्ते तक दफ़्तर देर से पहुंचता है। और जल्दी चला भी जाता है। दफ्तर के आस पास रहने वाले तो लंच पर घर भी चले जाते हैं और कम से कम दो घंटे बाद लौटते हैं। भी लंबा लेते हैं। बॉस लोग कुछ नहीं बोलते। सब चलता है। आख़िर वो भी कभी सी मुकाम से गुज़र चुके होते हैं।
और ऐसा युगों युगों से चला आ रहा है।
मगर अति हमेशा ख़राब होती है। टोकना पड़ता है। नहीं माने तो लिख कर देना पड़ता है। तब भी नहीं माने तो फिर.समझ जाइए बॉस के हाथ में बहुत ताकत होती है।
ऐसा हरेक की ज़िंदगी में कमोबेश घटित हुआ है।
एक नौजवान के साथ भी ऐसा ही हुआ। बात इतनी बढ़ी कि जवाब-तलब हो गया।
बॉस ने नौजवान को बुलाया और फायर किया - जबसे तुम्हारी शादी हुई है तुम लेट आ रहे हो। एक महीना, दो महीना और अब तीन महीने हो गए। कितनी ही बार समझाया गया। लिख कर दिया। तुम्हारी वेतन कटौती तक हो गयी। लेकिन तुम सुधरने का नाम ही नहीं ले रहे। नौकरी नहीं करनी है क्या? चूँकि तुम बहुत मेहनती सहायक हो इसलिए इससे पहले मैं वज़ह जानना चाहता हूं और उसके बाद फैसला करूंगा कि तुम्हें रखूं या निकाल दूं।

Tuesday, June 20, 2017

तन्हाई की साथी नलिनी जयवंत

- वीर विनोद छाबड़ा
छोटा कद व गठीला बदन। बड़ी-बड़ी आंखें, आमंत्रित करते होंट और चेहरे पर टपकता चुलबुलापन। नलिनी जयवंत बरबस ही किसी का भी ध्यान आकर्षित कर लेती थी। वो एक जगह टिक कर बैठ नहीं सकती थी। सेट पर भी इधर से उधर डोला करती थी। मगर अंदर ही अंदर उसे अकेलेपन का गम खाता रहा। उसका कोई स्थायी साथी नहीं था जो उसके मन को पढ़ सके, उसके दुख और अकेेलेपन को शेयर कर सके। मां-बाप, भाई-बहन और परिवार, दोस्तों सभी ने ठुकराया। पहले पति वीरेंद्र देसाई से पटी नहीं। उम्र में बहुत बड़ा था। ज़ालिम था। मार-पीट भी करता था। अशोक कुमार से उनका दस साल तक दिल का नाता रहा। लेकिन ज़माने के डर से अपना न सके। तन्हाई से छुटकारा पाने के लिए प्रभुदयाल से शादी कर ली। लेकिन वो अपने ही ग़म से खाली नहीं था।
साठ के दशक के मध्य तक नलिनी एक्टिव रही। फिर नई नायिकाओं की आमद, बदलते सामाजिक मूल्य और नये आसमान। नलिनी का वक़्त खत्म हो चुका था। उसने अकेलेपन के अंधेरे को अपना साथी बना लिया। उसने मान लिया कि उसका अपना कोई नहीं। यहां आदमी सिर्फ खुद से प्यार करता और जीता है। अस्सी के दशक में बंदिश और नास्तिक को छोड़ कर नलिनी ने कभी बाहर की दुनिया नहीं देखी। उनके कुछ ही नाते रिश्तेदार थे। कुछ मित्रगण उनसे मिलने आते थे। लेकिन उनकी मौजूदगी नलिनी को अच्छी नहीं लगती थी। वो चुपचाप बैठी रहती। फिर यह जान कर कि नलिनी अपनी तनहाईयों से खुद ही बाहर नहीं आना चाहती तो उन्होंने भी किनारा कर लिया।

नलिनी के एक मित्र का कहना था कि वो असुरक्षा की भावना से पीड़ित थी। आस-पास रहने वालों से यदा-कदा ही कभी बात हुई हो। सच तो यह था कि उनमें से अधिकतर को नहीं मालूम था कि उनके पड़ोस में कभी लाखों दिलों पर राज करने वाली बीते दिनों की शोख हसीना रहती है जिसने अनोखा प्यार, समाधी, संग्राम, नौजवान, शिकस्त, नास्तिक, फिफ्टी फिफ्टी,दुर्गेश नंदिनी, हम सब चोर हैं, आनंद मठ, हम सब चोर हैं, मिस बॉम्बे, कालापानी, मुनीम जी जैसी मशहूर फिल्मों में काम किया है और दिलीप कुमार, देवानंद, शम्मी कपूर और प्रदीप कुमार की नायिका रही है।
नलिनी ने दो कुत्ते पाल रखे थे। वही उसके अभिन्न साथी थे। उन्हीं से वो बात करती थी। उसे डर लगता था कि उन्हें कुछ हो न जाये। इसीलिए उसने उनकी सेहत का बहुत ध्यान रखा। उनको बढ़िया खाना दिया। उन्हें कभी तन्हा नहीं रहने दिया।
एक पड़ोसी ने एक दिन नलिनी को लंगाड़ते हुए देखा। शायद पैर में चोट लगी थी। उसने चिंतित होकर डाक्टर की मदद का प्रस्ताव दिया। मगर नलिनी ने मना कर दिया।

Monday, June 19, 2017

चमत्कार होते हैं

- वीर विनोद छाबड़ा
पत्नी गंभीर रूप से बीमार है। ब्लड कैंसर है। बेइंतहा प्यार करने का दम भरने वाले पति ने सारे जतन कर डाले ।
दिल्ली, मुंबई, चेन्नई आदि तमाम बड़े शहरों के स्पेशलिस्ट से चेक-अप कराया। लंदन, जर्मनी और न्यूयार्क भी हो आये। होमियोपैथी, आयुर्वैदिक, यूनानी और हक़ीम से देख लिया। लेकिन कहीं से भी अच्छी ख़बर नहीं मिली। ऑपरेशन एकमात्र सहारा है, मगर हाई रिस्क है। बचने का चांस सिर्फ दस परसेंट।
डॉक्टरों ने जवाब दे दिया। दुआ करो। हवन करो। टूना-टोटका करो। जो मर्ज़ी हो करो। हर हर बोलो या ज़िंदाबाद, तुम्हारी मर्ज़ी। मगर चांस नहीं के बराबर  है। चमत्कार ही एक मात्र सहारा है।
बेपनाह प्यार करने वाला पति ज़ार ज़ार रो रहा है। पल पल गिन रहा है। अब गई, तब गई वाली स्थिति है।
पत्नी ने पति का हाथ अपने हाथ में लिया - मत रो जानू। अगले जन्म में मिलेंगे। वादा करो। ऊपर जल्द से जल्द आओगे। तब वहां मौज करेंगे /
पति ने कहा - न होंगे जुदा, ये वादा रहा।
मगर मरती पत्नी को शक़ है कि ज़मीन-आसमान एक देने वाले पति की आंखों से झर-झर टपकते आंसू असली हैं या नकली। वादा असली है या झूठा। उसने पति के आंसूं पोंछे - जानू, एक बात सच्ची-सच्ची बताना। मेरे मरने के बाद क्या तुम दूसरी शादी करोगे?

Saturday, June 17, 2017

हेलो पिताजी

-वीर विनोद छाबड़ा
आज सब अपने पिता को अलग अलग तरीकों से याद कर रहे है। जिनके पिता हैं, उनको बच्चे गिफ़्ट दे रहे हैं। जिनके नहीं हैं वो वक़्त की मोटी धूल को हटा रहे हैं। किसी-किसी की आंख से दो बूंद भी टपकते दिख जाती है। हमे तो पिताजी का ज़न्नाटेदार थप्पड़ भी याद आ रहा है।
सच तो यह है कि हमें तो रोज़ ही पिताजी की याद आती है। दिल में रहते हैं। जब जी चाहा, गर्दन झुकाई और दर्शन हो गए। हमारे दिवंगत चाचा नंदलाल जी कहा करते थे कि मरने के बाद आत्मा परमात्मा में विलीन हो जाती है। दिवंगत माता-पिता को याद करने का मतलब है, भगवान को याद करना।
हमे तो सपने में आये दिन माता और पिता को देखते हैं। सुबह सर्वप्रथम उन्हें मन ही मन प्रणाम करते हैं। वही भगवान हैं। शक्ति हैं और भटकने की स्थिति में मार्गदर्शक भी। 
कुछ दिन हुए हमने अपने मित्र से ये फीलिंग शेयर की।
उन्होंने समझा कि हमारे माता-पिता की आत्मा अभी तक भटक रही है। उन्हें शांति की ज़रूरत है। कई उपाय बता डाले। तावीज़ वाले एक मौलाना के नाम के साथ-साथ एक सर्वज्ञानी पंडित का नाम भी सुझा दिया। गारंटी दी कि वे निश्चित ही सपने में आना बंद हो जाएंगे। 
हमने कहा ऐसे तावीज़ और पूजा-पाठ हमें नहीं चाहिए कि माता पिता सपने में आना बंद हो जायें। सपने में उनका आना सुहाना लगता है। और जिस कमरे में पिता जी का देहांत हुआ था हम तो उसी में दिन-रात रहते हैं। हरदम उनके वहां होने का अहसास होता है।
हमारे मित्र ने हमें भुतहा और साइको करार दिया। माथे पर आई पसीने की बूंदें पोंछीं और बिना चाय पिए तिड़ी हो गए।
अब कुदरत ने कुछ सूरत भी ऐसी दी है कि जिन्होंने पिता जी देखा है, हमें देखते ही उन्हें पिता जी की याद आती है। वो जब थे तब भी उनका बेटा होना हमारी पहचान थी और अब वो नहीं हैं तब भी उनके बेटे के नाते लोग जानते हैं। हमें गर्व है इस पर।

आईने के सामने जब हम खड़े होते हैं तो कन्फ्यूज़न होता है कि हम उनकी तस्वीर तो नहीं निहार रहे हैं। कई बार तो कहने का मन करता है - हेलो पिताजी।
---
18 June 2017
---
D-2290 Indira Nagar
Lucknow - 226016
mob 7505663626

Friday, June 16, 2017

भुगतान हो चुका है

- वीर विनोद छाबड़ा
वो लड़का अनाथ और बहुत ग़रीब था। उस दिन वो बहुत उदास था। वो पढ़ना चाहता था। उसने कई जगह मदद की गुहार लगाई। लेकिन सफलता नहीं मिली। उसने फ़ैसला किया कि वो अपने कपड़े और जितना भी उसके पास सामान है, सब बेच देगा। उसे विश्वास है कि इससे इतने पैसे निकल आएंगे कि महीने भर की फ़ीस का भुगतान हो जाएगा।
और सचमुच आशानुसार फीस के लिए ज़रूरी पैसे उसे मिल गए हैं और कुछ सेंट अतिरिक्त भी हो गए हैं। तभी उसे महसूस हुआ कि उसे बहुत भूख लगी है। लेकिन उसकी भूख इन अतिरिक्त सेंट से पूरी होनी संभव नहीं थी।
तभी उसके दिमाग में एक आईडिया आया। उसे विश्वास था कि उसे सफलता मिलेगी। उसने एक अच्छे दिखने वाले घर की बेल का बटन दबाया। एक स्त्री ने द्वार खोला। वो स्त्री बहुत सुंदर थी। इतनी अधिक सुंदर कि वो लड़का उसे अपलक निहारता रह गया। सुध-बुध खो बैठा। भूख भी भूल गया। उसने खाने की जगह एक गिलास पानी की मांग की।
लेकिन वो सुंदर स्त्री उसके चेहरे को देख कर ताड़ गई कि यह लड़का भूखा है। वो उसके लिए एक बड़े ग्लास में दूध भर कर ले आई। लड़का गटागट दूध पी गया। बदले में उसने बचे सेंट देने चाहे। लेकिन सुंदर स्त्री ने मना कर दिया। किसी पर दया करने का कोई मूल्य नहीं होता है।
लड़का बहुत खुश हुआ। दूध पीकर उसके शरीर में नई स्फूर्ति पैदा हुई। उसे विश्वास हो गया कि दुनिया में अभी अच्छे लोग हैं। आगे बढ़ो। कोई न कोई उसकी मदद करता रहेगा।

Thursday, June 15, 2017

न हिंदू, न मुसलमान, मिल बांट कर खाया

- वीर विनोद छाबड़ा
एक ज़ोरदार दारू पार्टी चल रही थी। इंजीनियर, बाबू, अकाउंटेंट, ठेकेदार आदि हर प्रोफेशन के लोग जमा थे। उनमें हिंदू भी थे और मुसलमान भी, सिख और ईसाई भी, यानि हर धर्म और जाति के लोग थे। दारू ने सारे भेद-भाव मिटा दिए।
पुरषोत्तम जी भरी महफ़िल में अपनी ईमानदारी के जोरदार किस्से बयान रहे थे। अच्छी-खासी चढ़ गयी थी। स्वयं को देशभक्त और बाकी धर्म वालों को भ्रष्ट भी बताते चल रहे थे।
एक बंदे से  बर्दाश्त नहीं हुआ। उसने उनको याद दिलाया - बरसों पहले मैं अपने एक दोस्त के साथ आया था। सारे कागज़ात पूरे थे, लेकिन बावजूद इसके आपने बिजली का कनेक्शन नहीं दिया। जब आपकी दराज़ में पांच सौ रूपए डाले, तो आपको सारे कागज़ात सही दिखने लगे थे और आपने फ़ौरन हस्ताक्षर कर दिए थे।
पुरषोत्तम जी ने सफ़ाई दी - अरे, हमारा उसूल है कि हम पैसा मांगते नहीं। जिसने ख़ुशी से दराज़ में डाल दिए, हमने मना नहीं किया और कभी गिने भी नहीं। अपना तो यही काम करने का तरीक़ा रहा। हराम के पैसे को कभी छुआ तक नहीं।
तभी पुरषोत्तम जी का मोबाईल बजा। उनके चेहरे पर चिंता की लकीरें आयीं।

Tuesday, June 13, 2017

ड्राईवर का भी स्टेटस होता है

-वीर विनोद छाबड़ा
आज के शोर-शराबे और हर तरफ़ ट्रैफ़िक जाम के दौर की तुलना में गुज़रा ज़माना ख़्वाब जैसा लगता है। पहले मोटरकार होती थी। अब मोटर ग़ायब है, सिर्फ़ कार रह गयी है।
अब कार रसूखदारों और बड़ों की बपौती नहीं है, बड़ी आसानी से आम आदमी की पहुंच में है। शुरुआत मारूति ने की थी और टाटा की नैनों ने इसे थोड़ा सा आगे बढ़ाया। मज़े की बात यह कि टाटा ने जिस अल्प आये के लिए बनाया, उसने ही रिजेक्ट कर दिया। यह कार नहीं खिलौना है। एक लाख एक्स्ट्रा खर्च करके आल्टो न ख़रीद लें। स्टेटस भी बनेगा। 
हम यूपी के बत्ती विभाग के शक्ति भवन स्थित हेडक्वार्टर से रिटायर हुए हैं। वहां वेतन इतना अधिक है कि तमाम छोटे-मोटे बाबू और तकनीशियन तक बड़ी बड़ी कारों के मालिक हैं। अब ये बात अलबत्ता दूसरी है कि दिल छोटे हैं। कार पेट्रोल या गैस से चलती है। और ये मुफ्त में नहीं पैसे से मिलता है। कईयों के लिए पैसा महत्वपूर्ण है। अरे भाई, दिल-गुर्दा होना भी तो ज़रूरी है।
यों महंगे पेट्रोल ने भी बहुतों को अपनी हैसियत का अहसास करा दिया है। बेशुमार छोटी-बड़ी कारों व स्कूटर-बाईको के कारण भयंकर ट्रैफ़िक जाम और नाकाफ़ी पार्किंग स्पेस सच्चाई तो है ही, साथ ही कार को बाहर न निकालना बहाना भी।
एक साहब ने फ़रमाया - मुझे चलानी नहीं आती। आजकल ड्राईवर मिलते नहीं। क्या करूं? कोई मिले तो बताईयेगा।
हमने थोड़ा डांट दिया - भलेमानुस खरीदी ही क्यों थी, जब चलानी नहीं आती?
इसके साथ ही हमें अपने ज़माने के पेड़़ पर चढ़ी हीरोइन की याद आती है। वो नीचे उतरने के लिए हीरो की चिरौरी कर रही थी।
एक समीक्षक ने टिप्पणी की थी - अरे भई, जब उतरना नहीं आता था तो चढ़ी ही क्यों थी?

ड्रेसिंग के बहाने लूट

-वीर विनोद छाबड़ा
हमारे पड़ोस में एक डॉक्टर हैं, पक्के एमबीबीएस। लेकिन बहुत ही ख़तरनाक, उनके लिए जिन्हें उनकी दवा सूट नहीं करती।
कभी इमरजेंसी में हमने भी उनसे दवा ली है। लेकिन एक से ज्यादा ख़ुराक कभी नहीं खा पाये। बहुत सस्ती दवा देते हैं। गरीबों के लिए तो यों समझिए मसीहा हैं। आजकल एक दिन की सौ रूपए फीस है, इसमें एक दिन की दवा भी शामिल है। बच्चों के लिए मिक्सचर का फार्मूला है।
इंजेक्शन लगा दिया तो कम से कम पचास रूपए बढ़ गए। इंजेक्शन महंगा हुआ तो सौ से दो सौ तक का इज़ाफ़ा। उनकी कोशिश रहती है कि मरीज़ इंजेक्शन लगवा ले। कहते हैं बहुत जल्दी फायदा हो जाएगा। दिहाड़ी वाले मज़दूर और कामग़ार को इंजेक्शन सूट करता है। इंजेक्शन लगवाईये और काम पर चलिए। लेकिन सुबह से शाम तक बीस-पच्चीस को तो इंजेक्शन ठोक ही देते हैं। लेकिन कुछ लोग तो सुई को देख कर रोने लगते हैं। सयाने टिकिया खाना पसंद करते हैं। तुरंत आराम नहीं मिलेगा, कोई बात नहीं। शाम या सुबह तक तो मिल ही जाएगा। 
अभी कुछ दिन पहले की बात है। बीच बाज़ार हमारा छोटा सा एक्सीडेंट हो गया। हाथ, कोहनियां और घुटने छिल गए। सामने ही एक डॉक्टर दिखा। उन्होंने एटीएस लगा दिया और ड्रेसिंग भी कर दी। बोले, आपका घर दूर है। बेहतर होगा कि पड़ोस के किसी डॉक्टर से एक-आध ड्रेसिंग करा लें।
छोटी-मोटी चोटें हमें लगती ही रहती हैं। घर में मरहम-पट्टी का इंतज़ाम भी हम रखते हैं। लेकिन उस दिन जाने कैसे मेडिकल बॉक्स इधर-उधर हो गया। साप्ताहिक बंदी के कारण बाजार भी बंद था। मजबूरन पड़ोस वाले डॉक्टर के पास जाना पड़ा।
डॉ साहब बातें बहुत करते हैं। ढंग की हों, तो बंदा सुने भी। फ़िज़ूल की बातें। वर्तमान हालात और अपने बाप-दादाओं के नीरस किस्से।
यों बातें नहीं खलती। लेकिन काम रोक कर बातें करना अखरता है। और उस पर तुर्रा यह कि उनकी हां में हां मिलाते चलिए। नहीं तो बहस करिये। नतीजा यह कि बात और भी लंबी। किसी को दफ्तर पहुंचना है या कोई दर्द से बिलबिला रहा है, उनकी बलां से। भाग भी नहीं सकते क्योंकि नस उनके हाथ में होती है।